KYC Kya Hai? Kyu Jaruri Hai? Bank Me KYC Kaise Kare?

KYC Kya Hai? KYC Kaise Kare? KYC Ka Full Form Kya Hai? आज में आपको इस पोस्ट के माध्यम से इन सभी सवालों के जवाब देने वाला हूँ. साथ ही हम आपको KYC की पूरी प्रक्रियां भी बताने वाले हैं. तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़िए और कही भी समझने में दिक्कत हो तो हमे बताएं.

kyc kya hai kyc kaise kare

दोस्तों आपने बहुत बार KYC के बारे में सुना होगा. जरुरी नही की आप internet उपभोक्ता हो जबहि इसके बारे में सुना होगा. आपने इसके बारे में अक्सर banking क्षेत्र में सुना होगा. जब आप bank account खुलवाते हो तो आपको KYC कराना परा होगा. इसके अलावा अगर आप paytm, phonepay use करते हो तो उसमे भी आपको kyc कराना परता होगा.

ऐसे में आपके मन में एक सवाल जरुर आया होगा की kyc का मतलब क्या होता है? KYC कराना क्यों जरुरी है? और भी कई तरह के सवाल आपके मन में आये होंगे. बहुत से लोगों को KYC का मतलब नही समझ में आता है तो आज में इस पोस्ट में उन्हें विस्तार से इसके बारे में बताने की कोशिश करूँगा.

तो चलिए हम निचे इसके बारे में विस्तार से जानते हैं. अगर आपको कही भी समझने में दिक्कत हो रही हो तो हमें comment करके अवश्य बताएं हम आपको सरल में समझाने की पूरी कोशिश करेगे.

KYC का FullForm क्या है?

यह सबसे basic सवाल है और लोगों के मन में सबसे पहले यही सवाल आता है. तो में आपको बता दूँ की KYC का fullform होता है “Know Your Customer”

इसके fullform से इसके बारे में बहुत से लोग समझ गये होंगे की kyc actual में होता क्या है. चलिए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं.

KYC (Know Your Customer) क्या होता है? What is KYC?

KYC का पूरा नाम होता है Know Your Customer यानि अगर हमअपनी भाषा में बोलेन तो KYC का अर्थ होता है “अपने ग्राहक को जाने” इस शब्द का इस्तेमाल वित्तीय क्षेत्र में सबसे ज्यादा होता है. इस प्रक्रिया का इस्तेमाल वित्तीय संस्थाएं अपने ग्राहक की पहचान स्थापित करने के लिए करती है.

See also  Virtual Reality क्या है? और कैसे काम करता है?

अगर हम सरल भाषा में कहें तो KYC एक ऐसी प्रक्रिया है जनके माध्यम से वित्तीय संस्थाएं (financial institution) अपने ग्राहक की पहचान और उसके पते को सत्यापित कर पाते हैं. इससे पहचान हो पाती है की ग्राहक geniune है या नहीं

Bank, Insurance company जैसे संस्थाएं किसी ग्राहक को अपना service देने से पहले उनकी सही पहचान कराती है. यह एक तरह से सरकार का आदेश भी है. क्युकी यहाँ पैसे का मामला होता है तो इसलिए आगे चल कर कोई risk न हो, इसलिए kyc कराती है.

अगर हम सरल शब्दों में कहें तो KYC की प्रक्रिया के तहत ग्राहक को अपने identity को proof करना होता है. जिससे उनकी पहचान हो पति है की ग्राहक जो जानकारी bank account खुलवाते समय दिया है वो सही है या नही.

KYC कराना क्यों जरुरी है?

KYC में वो सभी action लिए जाते हैं जो एक bank अपने ग्राहक की वास्तविकता की पहचान कराने के लिए कर सकता है. इससे पता चल पाता है की उनका ग्राहक real है या नही?

यह काले धन, और कई तरह के corruption scheme से बचाने में अहम् भूमिका निभाती है. इसके द्वारा हर एक व्यक्ति का सारा details सरकार के पास होता है. जिससे उनका सारा डाटा सरकार के पास रहता है.

KYC process में ID verification, face verification, document verification और बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन होता है. ये सारे वेरिफिकेशन एक ही समय में नही होता है. पहले आपको अपना identity वेरीफाई करना होगा. अगर इसमें कोई संदेह हुआ तो आपको डाक्यूमेंट्स वेरीफाई करना पर सकता है.

साधारण भाषा में kyc काला धन और curroption को रोकने का बहुत अच्छा तरीका है. इससे सरकार को काले धन का पता लगाना बहुत आसान हो जाता है.

See also  Hacking क्या है? Hacker क्या होते हैं? हैकिंग और हैकर कितने प्रकार के होते हैं?

KYC के लिए कौन-कौन सी Documnet लगती है?

KYC को वेरीफाई कराने के लिए आपसे कई तरह के document के बारे में पूछा जा सकता है. इन डाक्यूमेंट्स के माध्यम से आप अपने पहचान और पता को सत्यापित कर सकते हो.

पहले आपको अपनी पहचान को वेरीफाई करना होगा इसके लिए आपको निम्न document की आवश्यकता हो सकती है.

  • मतदाता पहचान पत्र
  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • पासपोर्ट
  • पैन कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस, आदि

आपको अपने पहचान को वेरीफाई करने के लिए ऊपर बताये गये डाक्यूमेंट्स में से कोई एक document देना होगा. फिर आपको अपना पता सत्यापित कराने के लिए निम्न document देना पर सकता है.

  • टेलीफोन बिल
  • बिजली बिल
  • गैस का रीफिलिंग बिल
  • पासपोर्ट
  • बैंक अकाउंट स्टेटमेंट जो मेल द्वारा भेजा गया हो
  • राशन कार्ड
  • नियोक्ता द्वारा जारी अप्‍वाइंटमेंट लेटर
  • कॉमर्शियल बैंकों के बैंक मैनेजर द्वारा भेजा गया पत्र। आदि

अगर आपको पता वेरीफाई करना परे तो ऊपर बताये गये डाक्यूमेंट्स में से कोई एक document की जरुरत परेगी. ये सभी डॉक्यूमेंट आप सभी के पास आसानी से उपलब्ध हो जायेंगे.

Bank Me KYC Kaise Kare?

अगर आपका बैंक खाता पहले का खुला हुआ है तो उसमे आपको kyc वेरीफाई कराना होगा. अगर आप ये नही करते हो तो आपके खाता हो लॉक कर दिया जायेगा.

पहले के समय में बैंक खाते खुलाने के लिए ज्यादा डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता नही होती थी. बस कुछ ही डाक्यूमेंट्स से आप अपना बैंक खाता खोल पाते थे.

सभी पुराने बैंक खाते की पुनः जांच करना बहुत आवश्यक था. क्युकी इसके बैगैर एक ही व्यक्ति के एक ही बैंक में कई सारे खाते भी खुल सकते थे. इसलिए सरकार सभी पुराने बैंक खातों की kyc कराने का निर्देश जरी किया.

जिनका बैंक अकाउंट पुराना है लेकिन उन्होंने kyc नही किया है तो उनके अकाउंट temporary close कर दिया जाता है. kyc कराने के बाद उनका खाता चालू कर दिया जायेगा.

See also  Storage Device क्या है? यह कितने प्रकार के होते हैं? पूरी जानकारी

KYC करने के लिए सबसे पहले आपको ऊपर बताये गये identity और address proof में से किन्ही 1-1 की ज़ेरोक्स करवा लेना है. इसके अलावा आपको पासपोर्ट size photo भी लग सकता है.

उसके बाद आपको अपने बैंक ब्रांच में जाना होगा फिर वहां आपको kyc का form मिलेगा उन्हें fillup करके उसमे बताये गये जरुरी डाक्यूमेंट्स को attach करके दे देना होगा. फिर आपका kyc वेरिफिकेशन complete हो जायेगा.

अगर इसके बारे में और भी जानकारी चाहिए तो अपने बैंक कस्टमर केयर में कॉल करके पूछ सकते हैं.

eKYC क्या है?

भारत में, Electronic know your customer या electronic know your client या eKYC के process में ग्राहक के identity और address को electronically आधार कार्ड के माध्यम से वेरीफाई किया जाता है. आधार कार्ड इंडिया का national biometric eID scheme है.

आधार कार्ड आज के समय में लगभग सभी भारतीय के पास मौजूद ही. इसलिए यहाँ eKYC के माध्यम से लोगों की identity को वेरीफाई किया जा रहा है.


Last Words,

तो दोस्तों आपको यह जानकारी कैसा लगा हमें कमेंट में जरुर बताएं. हमें उम्मीद है की आप समझ गये होंगे की KYC क्या है? कैसे करें और यह क्यों जरुरी है? इससे सम्बन्धित अगर आपके मन में कोई भी doubt है तो comment करें. हम आपकी सहाहता अवश्य करेंगे.

अगर आपको हमारा यह पोस्ट पढ़ कर अच्छा लगा तो इसी तरह की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग में आते रहिये. अगर आपको किसी topic के बारे में सुझाव देना है तो हमसे सम्पर्क करें. साथ ही इस पोस्ट आपको अपने दोस्तों के साथ share जरुर करें. इससे हमें इसी तरह के और अच्छी पोस्ट लिखने की प्रेरणा मिलती है.

Like the post?

Also read more related articles on BloggingHindi.com Sharing Is Caring.. ♥️

Sharing Is Caring...

3 thoughts on “KYC Kya Hai? Kyu Jaruri Hai? Bank Me KYC Kaise Kare?”

  1. I loved reading your article. I often read new articles on your blog, which led me to learn a lot. All your articles have the full ability to understand the topic completely. You continued to give us your knowledge in the same way, thank you very much for this.

    Reply
  2. बहुत ही अच्छी जानकारी दी है भाई आपने मुझे KYC करने में help मिलेगी, इस से।

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

×