IoT क्या है? IOT कैसे काम करता है? यह पूरी दुनियां को कैसे बदल सकती है?

IoT Kya Hai? IoT Kaise Work Karta Hai? आज हम इन्ही सब चीजों के बारे में जानने वालें है. अगर आप पहले कभी इसके बारे में सुने हो लेकिन ये क्या होता है आपको पता नही है. या फिर आप इसके बारे में पहली बार सुन रहे हो तो इस पोस्ट को last तक जरुर पढ़िए. इसमें हम आपको इससे सम्बन्धित सभी जानकारी देने वाले हैं.

iot kya hai kaise kam karta hai

दोस्तों इसमें कोई शक नही है की आज के समय में पूरी दुनियां internet पर निर्भर है. हर इन्सान किसी न किसी रूप में इन्टरनेट का use कर रहा है. चाहे किसी को मनोरंजन करने हो या फिर चाहे किसी को business करना हो. ये सारा काम आज के समय में internet पर हो रहा है. आज दुनियां के हर छोटे से लेकर बड़े business के लिए internet का उपयोग हो रहा है.

आज के समय internet का उपयोग करना जितना easy है वो 90’s के समय में उतना असं नही था. क्युकी उस समय इसका अविष्कार ही हुआ था. उस समय internet का उपयोग सिर्फ बड़े प्रोग्रामर ही कर पाते थे. फिर programmers और developers ने इन्टरनेट को आज बहुत सरल बना दिया है. जो हमें frontend में internet दिखता है, actual में ये ऐसा होता नही है. इसके backend में खरबों लाइन्स की codes लिखे हुए है जबही हम आसानी से इसको use कर पाते हैं.

अभी तक आपने बहुत सारे hollywood movie में रोबोटिक मशींस देखे होंगे. लेकिन आज के समय में यह असल जिंदगी में हो रहा है. आने वाले समय में सारा काम internet से जोड़ दिए जायेंगे. आज हम Internet of things के बारे में जानने वाले हैं.

अगर आपको IoT के बारे में पहले से पता नही है तो इस पोस्ट को निचे ध्यान से पढ़िए. में आपको यहाँ सरल भाषा में इसके बारे में बताने की कोशिश करूँगा. इसके अलावा आपको इससे related और भी जानकारी देने की कोशिश करूँगा. अगर फिर भी आपका कोई प्रश्न रह जाये तो comment में हमें पूछ सकते हो.

Internet Of Things (IoT) क्या है? (What is IoT in Hindi?)

IoT का पूरा नाम Internet of Things है. यह एक ऐसा concept है जिसमे पूरी दुनियां की चीजें, जिन्हें हम दैनिक इस्तेमाल में लाते हैं, को internet से जोड़ देना. यानि हम जितने भी चीजों का उपयोग अपने दैनिक जीवन में करते हैं उनके control इन्टरनेट से जोड़ दिया जाये.

आपके दैनिक जीवन में उपयोग होने वाले उपकरण कुछ इस प्रकार हो सकता है, इलेक्ट्रिक बल्ब, fan, वाशिंग मशीन, कॉफ़ी मेकर, एयर कंडीशन, मिक्सचर और भी बहुत साड़ी चीजें जिन्हें आप उपयोग करते है. अभी इन उपकरणों को चलाने के लिए स्विच को अपने से on/off करना परता है. लेकिन internet से जुड़ने के बाद इन्हें आप internet द्वारा control कर सकते हो.

See also  LTE और VoLTE क्या है? दोनों में क्या फर्क है? दोनों में कौन बेहतर है?

इसको हम दूसरी भाषा में समझें तो अभी आप जो ये पोस्ट पढ़ रहे हो वो computer, mobile, टेबलेट या फिर किसी दुसरे device से पढ़ रहे होंगे. खीर, जो भी device हो वो internet से connected होगा तभी आप मेरे site पर visit करके पढ़ रहे हो.

Internet connection एक बहुत अद्भूत चीज है, यह हमें उन सभी प्रकार के लाभ देता है जो पहले सम्भव नही थे. अगर आप पहले के cellphone देखें हैं तो पता होगा की पहले का cellphone अभी के smartphone से कितना अलग है. आप कॉल कर सकते थे और text भी पढ़ सकते थे लेकिन आज के समय में आप कोई भी किताब पढ़ सकते हो, मूवी देख सकते हो, कोई भो गाने सुन सकते हो, यह सभी आपके साथ से होता है.

ये सब आप internet से connected होने के बाद कर सकते हो. अब बात करते हैं की आप internet से सिर्फ इतना ही नही कर सकते हो. आप अपने घर के सारे चीजों की control को internet से connect कर सकते हो. इससे आप अपने हाथों से सोये हुए भी बहुत काम कर सकते हो. मतलब अभी अगर आपको दरवाजा खोलना हो, टीवी चालू करना हो, पंखा चलना हो आदि ये सब सारे काम करने के लिए आपको खुद जाना परता है. लेकिन जब आप इन चीजों को internet से connect कर देंगे तो आप सोये हुए भी अपने phone से ये सब कर सकते हो.

Internet of Things का सीधा सा मतलब है की दुनियां से सारे चीजों को internet से connect कर देना. मुझे लगता है की इसमें confusion की कोई बात ही नही है. जिस तरह अभी आप mobile से घर बीते कही hotel, टैक्सी या कुछ भी book कर लेते हो तो IoT में भी इसी से मिलता जुलता concept है, जिसमे आप घर के सारे चीजों को बिस्तर में सोये हुए ही mobile से चालू या बंद कर सकते हो.

Internet of Things का उदाहरण

आप अपने दैनिक चीजों को इन्टरनेट से connect करके उसे IoT device में ट्रांसफॉर्म कर सकते हो. यह internet से connect होगा तो control या फिर इनफार्मेशन कम्यूनिकेट करने में आसानी होगा.

आप किसी लाइट बल्ब को चालू या बंद कर सकते हो, उसे internet से connect करके. जब ये internet से connected रहेगा तो आप दुनियां के किसी भी कोने से इसको on या off कर सकते हो.

See also  Storage Device क्या है? यह कितने प्रकार के होते हैं? पूरी जानकारी

आप अपने घर या ऑफिस में लगे हुए cctv कैमरे को कही से भी control या देख सकते हो. ये जबहि सम्भव है जब आप उन्हें IoT से जोड़ेंगे.

IoT काम कैसे करता है?

Actual में यह IPV6 पर काम करता है, जिसका पूरा नाम होता है Internet protocol version 6 तो अब आप इसके नाम से ही समझ गये होंगे. हर device का अपना अलग IP होता है. इसी के माध्यम से Internet से connect किया जाता है. IoT device में कई तरह की technology जैसे ब्लूटूथ, वाई-फाई etc. use होती है.

अभी हम जिन चीजो का इस्तेमाल दैनिक जीवन में कर रहे हैं उन्हें internet से connect करने के लिए हमें कुछ और भी tools की जरुरत होगी. ये tools basically इन्टरनेट से connected होगा, जिससे आप internet से कोई भी command या request भेजेंगे तो ये IoT के पास ये आयेगा फिर वो इसपर work कर पायेगा.

जब कोई भी चीज internet से connected होता है तो इसका मतलब इसमें इनफार्मेशन send और receive दोनों होता है. अभी आपका phone internet से connected है तो आप जो चाहो वो song सुन सकते हो या जो चाहो वो movie देख सकते हो. जबकि ये आपके phone में store किया हुआ नही है. ये कही और store किया हुआ है. आपका phone इनफार्मेशन send करता है की मुझे ये song चाहिए फिर वो song जब play होता है तो उधर से डाटा receive होता है. इस तरह से आप internet के माध्यम से डाटा इनफार्मेशन को send/receive कर सकते हो.

इस माध्यम से आप command की मदद से अपने दैनिक उपकरणों को control कर सकते हो. इसमें अभी भी बहुत सारे improvements होने अबकी है या फिर हो रहा है.

कौन सी Technologies है जिससे IoT सम्भव हुआ है?

IoT का idea आज से नही बल्कि सालों पहले से था. लेकिन इन्हें सम्भव करने में बहुत समय लग गया. निचे कुछ तकनीकों के बारे में बात करते हैं जिससे की ये सम्भव हो पाया.

Access to low-cost, low-power sensor technology: Affordable और रिलाएबल सेंसर इस टेक्नोलॉजी को विकसित करने के लिए अति आवश्यक है. यह टेक्नोलॉजी मुख्यतह सेंसर पर ही आधारित होता है.

Connectivity: इन्टरनेट से connect कररने के लिए Network protocols का होस्ट इसके लिए बहुत आवश्यक है. यह डाटा ट्रान्सफर करने के लिए sensors को cloud और दुसरे चीजों से जोड़ने में मदद करता है.

Cloud computing platforms: Cloud plateforms की वृद्धि व्यवसायों और उपभोगकर्ताओं दोनों को अपने मन पसंद की इंफ्रास्ट्रक्चर बिल्ट करने में मदद करती है.

Machine learning and analytics: इस फीचर के साथ IoT को एक बहुत बड़ा और अलग लेवल मिल जाती है. इसके बगैर IoT की possiblity बहुत कम हो जाती है. यह बहुत सारे कामों को ऑटोमेट करने में बहुत हेल्प करता है. अगर फैक्ट्रीज और industries के लिए IoT का इस्तेमाल किया जायेगा तो ऐसे में Machine learning काफी ज्यादा helpful रहेगी.

See also  KYC Kya Hai? Kyu Jaruri Hai? Bank Me KYC Kaise Kare?

Conversational artificial intelligence (AI): बहुत सारे neural networks natural-language proccessing (NLP) को IoT devices में लाया है. इनके कुछ उदाहरण डिजिटल पर्सनल असिस्टेंस Alexa, Cortana और Siri है. इन्हें घर में उपयोग करने के लिए बहुत ज्यादा आकर्षक, सस्ती, और आसान बना दिया है.

IoT का इस्तेमाल किन कहाँ-कहाँ किया जा सकता है?

यह एक बहुत ही अद्भुत technology है. अभी भी यह पूरी तरह से तैयार नही हुआ है. लेकिन कुछ रूपों में अभी भी market में ये available है. यह काफी ज्यादा amazing फीचर है, जिसका use हर कोई करना चाहेगा तो चलिए हम जान लेते हैं की इसे हम किन रूपों में इस्तेमाल कर सकते हैं.

  • घर के ऑटोमेशन के लिए
  • स्मार्ट सिटी के लिए
  • स्मार्ट ग्रिड के लिए
  • इंडस्ट्रियल क्षेत्र में
  • कनेक्टेड कोर्स
  • खेती के कामों में
  • फैक्ट्रीज में

इसके अलावा भी बहुत से जगहों में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. यह बहुत ही अद्भुत चीज है. यह अभी तक पूरी तरह से तैयार नही हुआ है. एक बार ये तैयार हो जाये तो मानव अपने जीवन को और भी सरल बना सकता है.

निषकर्ष,

तो दोस्तों IoT पूरी दूनियाँ को एक अलग level पर पहुंचा सकती है. IoT से Manufacturing, Automotive, ट्रांसपोर्टेशन, रिटेल, health care, public sector जैसे industries को काफी फायदा पहुँचाने वाला है. साथ ही दोस्तों इससे बहुत बड़ा नुकसान ये भी होगा की जॉब्स की बहुत ज्यादा कमी हो जाएगी. जब से मशीनी तकनीक चालू हुआ है तो इससे भी मजदूरों को काफी नुकसान हुआ है.

इसके आने के बाद फायदा तो होगा लेकिन सबसे बड़ा चैलेंज ये है की इससे लोगों की नौकरियां नही बचेगी. जो लोग पढ़े लिखे नही है, उनकी ज़िन्दगी बहुत ख़राब हो जाएगी. तो इसलिए इन्हें भी ध्यान में रखने हुए इस technology को आगे बढ़ाना चाहिए.

उम्मीद है दोस्तों की आपको ये पोस्ट पढने के बाद IoT के बारे में अच्छे से समझ में आ गया होगा. इससे सम्बन्धित कोई सवाल है तो निचे comment कर सकते हैं. और साथ ही इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ करें. इससे हमें इसी तरह की अच्छी जानकारी share करने की प्रेरणा मिलती है.

Like the post?

Also read more related articles on BloggingHindi.com Sharing Is Caring.. ♥️

Sharing Is Caring...

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

×