Google AMP Use Karne Ke Pros And Cons (Fayde Aur Nuksan)

Hello friends, हमने अपने पिछले post में आप सभी को Google AMP क्या है? इसके बारे में पूरी जानकारी बताया था. इस post में हम आपको AMP use करने के advantages और disadvantages के बारे में बताएंगे. यदि आप अपने ब्लॉग में AMP use करना चाहते हो तो इससे पहले इस post को जरूर पढ़ लीजिए. इससे ये बिल्कुल clear हो जाएगा कि क्या आपको ब्लॉग में AMP use करना चाहिए?

pros cons of using amp pages

Google के अनुसार, अगर कोई site load होने में 3 second या इससे अधिक time लेता है तो 40% लोग उस site से leave कर जाता है. अगर आप बहुत दिन से internet use कर रहे हो तो आपके साथ भी ऐसा time था जब 1 second में load होने वाली site 10 second में load होता था. अभी थोड़ा बहुत स्थिति में परिवर्तन हुआ है लेकिन अभी भी बहुत से ऐसे town और villages हैं, जहाँ लोग slow internet connection से परेशान रहते हैं।

आज के समय मे 70% internet user mobile से ही internet use करते हैं. क्योंकि पहले जितना features computer या laptop में था वो लगभग अभी android phone में मिल जाता है. लोग अपने android phone से ही social networking और अपने business को manage कर लेते हैं. इन सब के पीछे सबसे ज्यादा credit गूगल को मिलता है।

Computer users की तुलना में mobile users के तरफ ज्यादा ध्यान दे रहा हैं. क्योंकि google को सबसे ज्यादा traffic mobile से ही मिलता है. आप देखते होंगे कि Google अपने mobile users के लिए regular नए नए features को launch करता है।

Google ने February में ही AMP को introduce किया था. अगर आपने हमारे पिछले post (Google AMP क्या है? Full Information) को पढ़ा है तो amp से आप वाकिफ होंगे और आपको इसके बारे में बताने की जरूरत भी नही होगी. लेकिन हम फिर भी आपको नीचे short में बताने की कोशिश करते हैं. अगर आपको इसके बारे में details से जानना है तो इससे पहले वाले post को पढ़ें।

AMP एक ऐसा project है जो किसी भी site को quickly load करके instant result show करता है. जब किसी site में amp enable किया होता है तो उसका look बिल्कुल simple और उसके site से फालतू contents अपने आप remove होकर show होने लगता है. AMP enabled site बहुत ज्यादा fast load होते हैं और हमने इसे एक ब्लॉग में use करके test भी किया है।

AMP use करने के बहुत सारे फायदे हैं. सबसे पहले तो इससे site की loading speed fast होती है और इसके कारण mobile ranking signal increase होने के बहुत ज्यादा chances होते हैं. इसके अलावा भी इसे use करने के बहुत सारे advantages हैं. इसको use करने के कुछ disadvantages भी हैं जो शायद आपको पता नही होगा।

See also  Blogger Blog Ki Traffic Ko Kisi Dusre Blog Me Redirect Kaise Kare

हम इस post में AMP use करने के pros and cons के बारे में ही बात करने के वाले हैं. जिससे आपको amp use करने के फायदे और नुकसान के बारे में पता चलेगा और आप आसानी से decide कर पाएंगे कि आपको ब्लॉग में amp use करना चाहिए या नही?

Advantages and Disadvantages of Using Google’s AMP.

1. It speeds up website load time:

सबसे पहली बात तो AMP use करने से ब्लॉग की loading speed ज्यादा faster हो जाएगा. आप सभी को पता होगा कि गूगल का AMP launch करने के पीछे सबसे बड़ा reason यही था कि site या webpage की loading speed को बहुत ज्यादा faster बनाना. गूगल का कहना है कि AMP use करने से आपके site की loading speed 80% faster हो जाएगा. आपको पता होगा कि amp enable करने के बाद आपके site से extra content और scripts को remove कर दिया जाता है और इसमें amp javascript, html और google amp cache को use किया जाता है।

2. Increase Mobile Ranking:

कुछ लोग सोचते हैं कि AMP गूगल ranking factor का ही एक part है लेकिन यह गलत बात है. में मानता हूँ कि amp use करने से Google SERPs में आपके site को better position मिल सकती है. इसका कारण यह है कि AMP use करने से site loading speed fast होता है और mobile-first index के लिए ready होता है. इससे mobile search ranking increase होता है और जब कोई mobile से search करता है तो उसका site अच्छे position पर show होता है।

3. It improves server performance:

अगर आपके site में mobile से सबसे अधिक traffic आ रहा है तो amp आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा. क्योंकि यह आपके site की server load को कम करता है और उसकी performance को improve करने में मदद करता है।

4. Get New Look and better Position on SERPs:

जब आप अपने site में amp use करना start कर देंगे तो Google को इसके बारे में पता चल जाएगा. Google SERP में amp वाले site के नीचे एक amp show होता है. आप नीचे picture में देख सकते हो की यहाँ amp वाले site के नीचे कुछ इस तरह का icon show होगा।

Google AMP Use Karne Ke Pros And Cons (Fayde Aur Nuksan) 3

5. Reduce Bounce Rate:

आपको पता है कि जब visitor किसी site में visit करता है और उसकी loading speed बहुत slow होती है तो उस site से वह तुरंत leave कर लेता है. जिस site की loading speed slow होगी तो उसका bounce rate 50% से भी अधिक रहेगा. इसका मतलब की visitors को उस site में आने के बाद कुछ परेशानी जरूर होती होगी और इसीलिए वो आपके site पर ज्यादा समय नही रुकते हैं.

See also  Blog Traffic Kam (Decrease) Hone Par Kya Kare [5 Tips]

जब आपके site की loading speed fast होगी तो visitors आपके site पर ज्यादा से ज्यादा time spend करेगा. आपके site की traffic धीरे धीरे increase होने लगेंगे।

6. Increase CTR:

अगर आपको अपने ब्लॉग में search engine से अधिक से अधिक traffic प्राप्त करना चाहते हो तो अपने site को search engine में अच्छे position पर लाना होगा. इससे आपका blog post Google SERPs में top position पर show होगा. जब आप AMP use करेंगे तो आपका post better position पर index होगा. जब आपका post किसी तरह Google SERPs में better position पर index होने लगेगा तो उसपर click मिलने के chances बहुत ज्यादा है।

7. Remove Extra Content and Script:

जब site में amp enable करते हैं तो वहाँ से extra contents और scripts अपने आप हट जाते हैं और site fastly load होता है. आपको बता दें कि amp में आप फालतू javascript code use कर सकते हो और high level css code भी use नही कर सकते हो।

8. Simple look and easy to understand:

आपको पता होगा की amp के अपने html tags हैं. और amp pages को बहुत simple design किया जाता है. AMP pages में readers को पढ़ने और समझने में ज्यादा आसानी होती है. इसमे css, javascript जैसे slow load होने वाले codes का use न के बराबर होता है।

9. A free CDN:

जिस तरह हम ऊपर ही बात कर चुके हैं कि यदि आप low quality hosting use करते हो और ब्लॉग में traffic बहुत अधिक है तो तो amp use कीजिए. क्योंकि amp उसे3 करने से आपके site की data Google amp cache मे store हो जाती है. जब कोई उसे amp version में open करता है तो google amp cache से ही load हो जाता है. जिससे आपके site की होस्टिंग4 पर impact नही पड़ता है. इसलिए google amp cache एक तरह का CDN हो गया।

10. Traffic is growing:

At last, हमने भी exprience लेने के अपने एक site में कुछ दिन amp use करके भी try किया है. इससे ब्लॉग की search ranking increase होने में help तो मिलता ही है. धीरे धीरे site की traffic भी increase होने लगता है. क्योंकि कुछ दिन के बाद जब कोई google में mobile से search करता है तो आपके site के नीचे amp icon होता है और जो amp के बारे में जानते हैं वो उसके click करने के chances 60% से अधिक रहता है।

See also  Old Blog Post Update Q Kare? Old Post Update Karne Ki 8 Tips

Cons (Disadvantages) of Using AMP.

1. Ad revenue is reduced:

AMP use करने का सबसे बड़ा नुकसान यही है कि इससे earning बहुत कम हो जाएगी. जब आप amp use करेंगे तो इसमें आप बहुत ज्यादा ads नही दिखा सकते हो. इसमे आप अलग अलग के types की ad networks भी use नही कर सकते हो. इसलिए अगर आपको अपने ब्लॉग से पैसे कमाने हैं तो amp भूल जाइए।

2. Analytics are a bit stripped:

AMP ने google analytics supported है लेकिन इसके लिए थोड़ा अलग तरह के tag को use करना होगा. इस tag को अपने ब्लॉग के सभी amp pages में add करना होगा. और एक एक करके सभी pages में analytics code add करेंगे तो इसमें बहुत समय ले लेगा।

3. Extra Content not showing.

आप सभी को पता होगा कि amp use करने के बाद site से extra content hide हो जाते हैं और scripts delete हो जाते हैं. जैसे sidebar, header bar, extra widget area, 2 column layout ये सभी features को हम अपने site से lost कर देते हैं. इसके अलावा आप extra और फालतू widgets का use भी नही कर सकते हो।

4. Difficult to Enable AMP:

में जनता हूँ कि बहुत से wordpress user सोच रहे होंगे कि wordpress ब्लॉग में plugin के द्वारा आसानी से amp configure कर सकते हैं. लेकिन सिर्फ wordpress और blogger में amp use करना आसान है और custom website के लिए amp configure करना बहुत मुश्किल है। इसके लिए site के हर एक page को edit करके उसमें amp html tags को add करना होगा।

5) You Really Need??

अब हम आपको last में बता देते हैं कि यदि आपके site की loading speed fast है ही और आप चाहते हो कि amp use करो तो आपको फायदा नही होगा. इससे उल्टा आपको नुकसान ही होगा। इसलिए पहले आप सोचिये की आपको सच मे इसकी जरूरत है? उसके बाद ही आगे step उठाएँ।

Final thoughts,
इस post को पढ़ने के बाद आप जान गए होंगे कि amp use करने के क्या क्या फायदे हैं और क्या क्या नुकसान हैं. इसके बाद आप आसानी से फैसला ले सकते हो की क्या सच मे आपको amp use करना चाहिए। अगर आपने भी amp use किया है तो अपना exprence हमारे साथ comment में share करें।


इस post को social media में share कीजिए।

Like the post?

Also read more related articles on BloggingHindi.com Sharing Is Caring.. ♥️

Sharing Is Caring...

2 thoughts on “Google AMP Use Karne Ke Pros And Cons (Fayde Aur Nuksan)”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

×