Internal Linking Kya hai? Internal Linking karne Ke 5 Fayde

आज हम इस Post में जिस Topic पर बात करेंगे वो SEO का बहुत Important Part है. आज हम इन Post में आपको ये बताएँगे की Internal Linking क्या है ,  Internal Linking कैसे करें,  Internal Linking क्यों करे 5 फायदे .

Internal Linking kya hai kyo kare kaise kare 5 fayde What are

शायद आपने कभी SEO से Related Post पढ़ते वक़्त Internal Linking के बारे में सुना होगा. अगर आप अपने Blog की SEO Increase करना चाहते हो को आपको Internal linking आपके लिए बहुत Important है.  आप Internal Linking की Help से Search Engine में अपने Blog को Top Rank पर दिखा सकते हो. इसकेलिए बस आपको Properly Post में Internal Link Add करना होगा।

Internal Linking क्या होता है?

अपने बहुत से Blog में Post पढ़ते Time देखा होगा की Post में दूसरे Post का भी Link Add होते हैं.  अगर Simple में कहें तो Blog में उसी Blog के किसी Page या Post Link को Add करना ही Internal Link कहलाता है। अगर आप अपने Blog में Popular Post widget, Recent Post Widget Add करते हो इसमें जो Post link और title होगा ये भी Internal link ही कहलायेगा।

Internal Linking कैसे कर सकते है

अब में आपको Blog Internal Linking करने के बारे में बता रहा हूँ की आप Blog Post लिखते समय Blog के Other Post का Link Add करके Internal Linking कर सकते हो. इसके अलावा आप Blog में Popular Post Widget & Related Post Widget को Blog में Add करके भी Internal linking कर सकते हो।

Internal Linking करने के क्या फायदे हैं

Reduce Bounce Rate
See also  Adsense Me Ads Unit kaise Banaye

जब कोई Visitor जब हमारे site पर आते है तो वो बिना Post पढ़े Back हो जाते है तो इससे Bounce Rate Increase होती है.  जब अगर हम Post में Internal Link Add करेंगे तो Visitor Post को पढ़ने के Link पर Click करके आसानी से Post read कर पायेगा.  इससे Blog की Bounce Rate कम होगी।

Increase Internal PageRank

Google आपके Blog को PageRank उसके Backlink और Backlink Quality के हिसाब से देता है. आप Internal Linking की Help से Link Juice प्राप्त कर सकते हो. इसका मतलब की आप Internal linking से Backling भी बना सकते हो और इससे आप Blog की PageRank को Increase कर सकते हो।

Visitors Like it

जी हाँ हर आदमी जब किसी के Blog में जाता है तो 3-4 तो पढ़ता ही है. अगर आप Post में Internal Link Add करोगे तो इससे Visitors को Post पढ़ने में आसानी तो होगी ही और साथ ही साथ आपके Blog के Pageviews में भी मुनाफा होगी।

Better Crawling & Indexing Of Your Site

जब आप Internal Linking करोगे तो अगर कोई आपके Blog Post से Related Search करेगा तो Search Result में आप जितने Post में Link Add किये हो वो भी Index होगा. 

Increase Pageviews

Internal Linking करने से आपके Blog के Pageviews बढ़ेंगे. अगर कोई Visitor आपके Post को Read करेगा तो अगर उसमे दूसरे Post का link होगा तो वो उस Post को भी पढ़ना चाहेगा तो उस पर आसानी से Click करके उस Post को पढ़ लेगा. इससे आपके Blog की Pageviews में बढ़ोतरी होगी।

See also  Blogspot Blog me Country Specific Redirect Disable kaise Kare

में आशा करता हूँ की आपको ये Post अच्छी लगी होगी. अगर आप हमारे Blog के New Updated Post को Email के द्वारा पढ़ना चाहते हो तो कृपया हमारे Blog से Subscribe करें.

Like the post?

Also read more related articles on BloggingHindi.com Sharing Is Caring.. ♥️

Sharing Is Caring...

5 thoughts on “Internal Linking Kya hai? Internal Linking karne Ke 5 Fayde”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

×