दुर्गा पूजा पर निबंध – Essay on Durgapuja in Hindi (Class 1 to 10th)

दुर्गा पूजा पर निबंध 1 (100 शब्द)

परिचय

दुर्गा पूजा हिन्दूओं के महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। यह हिन्दू धर्म के लोगों द्वारा हर साल महान उत्साह और विश्वास के साथ मनाया जाता है। यह एक धार्मिक त्योहार है, जिसके बहुत से महत्व है। यह हर साल पतझड़ के मौसम में आता है।

विशेष क्या है

इस त्योहार के दौरान, देवी दुर्गा की लोगों द्वारा पूरे नौ दिनों तक पूजा की जाती है। त्योहार के अन्त में, देवी दुर्गा की मूर्ति को नदी या पानी के टैंक में विसर्जित किया जाता है। कुछ लोग पूरे नौ दिनों का उपवास रखते हैं हालांकि, कुछ लोग केवल पहले दिन और आखिरी दिन ही उपवास रखते हैं। लोगों का विश्वास है कि, ऐसा करने से उन्हें देवी दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त होगा। उनका विश्वास होता है कि, दुर्गा माता उन्हें सभी समस्याओं और नकारात्मक ऊर्जा से दूर रखेंगी।

दुर्गा पूजा पर निबंध 2 (150 शब्द)

परिचय

दुर्गा पूजा भारत का धार्मिक त्योहार है। यह बहुत खुशी के साथ देश भर में हिंदू लोगों द्वारा मनाया जाता है। सभी लोग बहुत से स्थानों पर शहरों या गाँवों में इस पूजा को बहुत अच्छे से सांस्कृतिक और परंपरागत तरीके से मनाते हैं। यह बहुत ही खुशी वाला अवसर होता है विशेषरुप से, विद्यार्थियों के लिए क्योंकि, उन्हें छुट्टियों के कारण अपने व्यस्त जीवन से कुछ आराम मिलता है। यह बहुत ही अच्छे तरीके से मनाया जाता है, कुछ बड़े स्थानों पर बड़े मेलों का भी आयोजन किया जाता है।

दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा नौ दिन तक चलने वाला त्योहार है। दुर्गा पूजा के दिनों को स्थान, परंपरा, लोगों की क्षमता और लोगों के विश्वास के अनुसार मनाया जाता है। कुछ लोग इसे पाँच, सात या पूरे नौ दिनों तक मनाते हैं। लोग दुर्गा देवी की मूर्ति की पूजा “षष्टी” से शुरु करते हैं, जो “दशमी” पर खत्म होती है। समाज या समुदाय में कुछ लोग पास के क्षेत्र में पंडाल को सजा कर मनाते हैं। इन दिनों में, आस-पास के सभी मन्दिर विशेषरुप से, सुबह में पूरी तरह से भक्तिमय हो जाते हैं। कुछ लोग घरों में ही सभी व्यवस्थाओं के साथ पूजा करते हैं और अन्तिम दिन मूर्ति के विसर्जन करने के लिए जाते हैं।

दुर्गा पूजा पर निबंध 3 (200 शब्द)

परिचय

भारत त्योहारों और मेलों की भूमि है। ऐसा इसलिए कहा जाता है, क्योंकि यहाँ विभिन्न धर्मों के लोग रहते हैं और वे सभी पूरे साल अपने-अपने त्योहारों और उत्सवों को मनाते हैं। यह इस ग्रह पर पवित्र स्थान है, जहाँ बहुत सी पवित्र नदियाँ हैं और बड़े धार्मिक त्योहारों और उत्सवों को मनाया जाता है। लोगों विशेषरुप से, पूर्वी भारत के लोगों द्वारा मनाया जाने वाला नवरात्री (अर्थात् नौ रातों का त्योहार) या दुर्गा पूजा एक त्योहार है। यह पूरे देशभर में खुशहाली पूर्ण उत्सवों का वातावरण लाता है। लोग देवी दुर्गा की पूजा के लिए मंदिरों में जाते हैं या घर पर ही पूरी तैयारी और भक्ति के साथ अपने समृद्ध जीवन और भलाई के लिए पूजा करते हैं।

दुर्गा पूजा का उत्सव

See also  भारत में लोकतंत्र पर निबंध - Essay on Democracy in India in Hindi

नवरात्री या दुर्गा पूजा का उत्सव बुराई के ऊपर अच्छाई की जीत के रुप में मनाया जाता है। भक्तों द्वारा यह विश्वास किया जाता है कि, इस दिन देवी दुर्गा ने बैल राक्षस महिषासुर पर विजय प्राप्त की थी। उन्हें ब्रह्मा, भगवान विष्णु और शिव के द्वारा इस राक्षस को मारकर और दुनिया को इससे आजाद कराने के लिए बुलाया गया था। बहुत दिनों के युद्ध के बाद, उन्होंने उस राक्षस को दसवें दिन मार गिराया था, वह दिन दशहरा कहलाता है। नवरात्री का वास्तविक अर्थ, देवी और राक्षस के बीच युद्ध के नौ दिन और नौ रात से है। दुर्गा पूजा के त्योहार से भक्तों और दर्शकों सहित विदेशी पर्यटकों की एक स्थान पर बहुत बड़ी भीड़ जुड़ी होती है।

दुर्गा पूजा पर निबंध 4 (250 शब्द)

परिचय

दुर्गा पूजा हिन्दूओं के मुख्य त्योहारों में से एक है। यह हरेक साल बहुत सी तैयारियों के साथ देवी दुर्गा के सम्मान में मनाया जाता है। वह हिमालय और मैनका की पुत्री और सती का अवतार थी, जिनकी बाद में भगवान शिव से शादी हुई। यह माना जाता है कि, यह पूजा पहली बार तब से शुरु हुई, जब भगवान राम ने रावन को मारने के लिए देवी दुर्गा से शक्ति प्राप्त करने के लिए यह पूजा की थी।

देवी दुर्गा की पूजा क्यों की जाती है

देवी दुर्गा की नवरात्री में पूजा इसलिए की जाती है क्योंकि, यह माना जाता है कि, उन्होंने 10 दिन और रात के युद्ध के बाद महिषासुर नाम के राक्षस को मारा था। उनके दस हाथ है, जिसमें सभी हाथों में विभिन्न हथियार हैं। देवी दुर्गा के कारण लोगों को उस असुर से राहत मिली, जिसके कारण लोग उनकी पूरी श्रद्धा के साथ पूजा करते हैं।

दुर्गा पूजा

इस त्योहार पर देवी दुर्गा की पूरे नौ दिनों तक पूजा की जाती है। यद्यपि, पूजा के दिन स्थानों के अनुसार अलग-अलग होते हैं। माता दुर्गा के भक्त पूरे नौ दिन तक या केवल पहला और आखिरी दिन उपवास रखते हैं। वे देवी दुर्गा की मूर्ति को सजाकर प्रसाद, जल, कुमकुम, नारियल, सिंदूर आदि को सभी अपनी क्षमता के अनुसार अर्पित करके पूजा करते हैं। सभी जगह बहुत ही सुन्दर लगती हैं और वातावरण बहुत ही स्वच्छ और शुद्ध हो जाता है। ऐसा लगता है कि, वास्तव में देवी दुर्गा आशीर्वाद देने के लिए सभी के घरों में जाती है। यह विश्वास किया जाता है कि, माता की पूजा करने से आनंद, समृद्धि, अंधकार का नाश और बुरी शक्तियों हटती है। आमतौर पर, कुछ लोग 6, 7, 8 दिन लम्बा उपवास करने के बाद तीन दिनों (सप्तमी, अष्टमी और नौवीं) की पूजा करते हैं। वे सात या नौ अविवाहित कन्याओं को देवी को खुश करने के लिए सुबह को भोजन, फल और दक्षिणा देते हैं।

मूर्ति का विसर्जन

पूजा के बाद लोग पवित्र जल में देवी की मूर्ति के विसर्जन के समारोह का आयोजन करते हैं। भक्त अपने घरों को उदास चहरों के साथ लौटते हैं और माता से फिर से अगले साल बहुत से आशीर्वादों के साथ आने की प्रार्थना करते हैं।

See also  ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है पर निबंध - Essay on Honesty is the Best Policy

दुर्गा पूजा पर निबंध 5 (300 शब्द)

परिचय

हिन्दू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक दुर्गा पूजा भी है। यह दुर्गोत्सव या षष्ठोत्सव के नाम से भी जाना जाता है, जिनमें से छः दिन महालया, षष्ठी, महा-सप्तमी, महा-अष्टमी, महा-नवमी और विजयादशमी के रूप में मनाए जाते हैं। देवी दुर्गा की इस त्योहार के सभी दिनों में पूजा की जाती है। यह आमतौर पर, हिन्दू कलैडर के अनुसार, अश्विन महीने में आता है। देवी दुर्गा के दस हाथ हैं और उनके प्रत्येक हाथ में अलग-अलग हथियार है। लोग देवी दुर्गा की पूजा बुराई की शक्ति से सुरक्षित होने के लिए करते हैं।

दुर्गा पूजा के बारे में

दुर्गा पूजा अश्विन माह में चाँदनी रात में (शुक्ल पक्ष में) छः से नौ दिन तक की जाती है। दसवाँ दिन विजयादशमी के रूप में मनाया जाता है, क्योंकि इस दिन देवी दुर्गा ने एक राक्षस के ऊपर विजय प्राप्त की थी। यह त्योहार बुराई, राक्षस महिषासुर पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। बंगाल के लोग देवी दुर्गा को दुर्गोत्सनी अर्थात् बुराई की विनाशक और भक्तों की रक्षक के रुप में पूजा करते हैं।

यह भारत में बहुत विस्तार से बहुत से स्थानों, जैसे- असम, त्रिपुरा, बिहार, मिथला, झारखंड, उड़ीसा, मणिपुर, पश्चिमी बंगाल आदि पर मनाया जाता है। कुछ स्थानों पर यह पाँच दिनों का वार्षिक अवकाश होता है। यह धार्मिक और सामाजिक सांस्कृतिक कार्यक्रम है, जो प्रत्येक साल भक्तों द्वारा पूरी भक्ति के साथ मनाया जाता है। रामलीला मैदान में एक बड़ा दुर्गा मेला का आयोजन होता है, जो लोगों की भारी भीड़ को आकर्षित करता है।

दुर्गा पूजा के पर्यावरणीय प्रभाव

लोगों की लापरवाही के कारण, यह पर्यावरण पर बड़े स्तर पर प्रभाव डालता है। माता दुर्गा की मूर्ति को बनाने और रंगने में प्रयोग किए गए पदार्थ (जैसे- सीमेंट, पेरिस का प्लास्टर, प्लास्टिक, विषाक्त पेंट्स, आदि) स्थानीय पानी के स्रोतों में प्रदूषण का कारण बनते हैं। त्योहार के अन्त में, प्रत्यक्ष रुप से मूर्ति का विसर्जन नदी के पानी को प्रदूषित करता है। इस त्योहार से पर्यावरण पर प्रभाव को कम करने के लिए, सभी को प्रयास करने चाहिए और कलाकारों द्वारा पर्यावरण के अनुकूल पदार्थों से बनी मूर्तियों को बनाना चाहिए, भक्तों को सीधे ही मूर्ति को पवित्र गंगा के जल में विसर्जित नहीं करना चाहिए और इस परंपरा को निभाने के लिए कोई अन्य सुरक्षित तरीका निकालना चाहिए। 20 वीं सदी में, हिंदू त्योहारों का व्यावसायीकरण मुख्य पर्यावरणीय मुद्दों का निर्माण करता है।

दुर्गा पूजा पर निबंध 6 (400 शब्द)

परिचय

दुर्गा पूजा एक धार्मिक त्योहार है, जिसके दौरान देवी दुर्गा की पूजा का समारोह किया जाता है। यह भारत का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। यह एक परंपरागत अवसर है, जो लोगों को एक भारतीय संस्कृति और रीति में पुनःजोड़ता है। विभिन्न प्रकार के रीति-रिवाजों, जैसे – उपवास, दावत, पूजा आदि, को पूरे दस दिनों के त्योहार के दौरान निभाया जाता है। लोग अन्तिम चार दिनों में मूर्ति विसर्जन और कन्या पूजन करते हैं, जो सप्तमी, अष्टमी, नवीं और दशमीं के नाम से जाने जाते हैं। लोग दस भुजाओं वाली, शेर पर सवार देवी की पूरे उत्साह, खुशी और भक्ति के साथ पूजा करते हैं।

See also  ज्ञान शक्ति है पर निबंध - Essay on Knowledge is Power in Hindi

देवी दुर्गा की कहानी और किवदंतियाँ

देवी दुर्गा की पूजा से संबंधित कहानियाँ और किवदंतियाँ प्रचलित है, जिनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

  • यह माना जाता है कि, एकबार राक्षस राजा था, महिषासुर, जो पहले ही देवताओं पर स्वर्ग पर आक्रमण कर चुका था। वह बहुत ही शक्तिशाली था, जिसके कारण उसे कोई नहीं हरा सकता था। तब ब्रह्मा, विष्णु और महेश (शिव) के द्वारा एक आन्तरिक शक्ति का निर्माण किया गया, जिनका नाम दुर्गा (एक दस हाथों वाली और सभी हाथों में विशेष हथियार धारण करने वाली अद्भूत नारी शक्ति) कहा गया। उन्हें राक्षस महिषासुर का विनाश करने के लिए आन्तरिक शक्ति प्रदान की गई थी। अन्त में, उन्होंने दसवें दिन राक्षस को मार दिया और उस दिन को दशहरा या विजयदशमी के रुप में कहा जाता है।
  • दुर्गा पूजा की दुसरी किवदंति है कि, रामायण के अनुसार भगवान राम ने रावण को मारने के लिए देवी दुर्गा से आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए चंडी पूजा की थी। राम ने दुर्गा पूजा के दसवें दिन रावण को मारा था, तभी से उस दिन को विजयदशमी कहा जाता है। इसलिए दुर्गा पूजा सदैव अच्छाई की बुराई पर विजय का प्रतीक है।
  • एकबार कौस्ता (देवदत्त का पुत्र) ने अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद अपने गुरु वरतन्तु को गुरु दक्षिणा देने का निर्णय किया हालांकि, उसे 14 करोड़ स्वर्ण मुद्राओं (प्रत्येक 14 विज्ञान के लिए एक-एक मुद्रा) का भुगतान करने के लिए कहा गया। वह इन्हें प्राप्त करने के लिए राजा रघुराज (राम के पूर्वज) के पास गया हालांकि, वह विश्वजीत के त्याग के कारण यह देने में असमर्थ थे। इसलिए, कौस्ता, इन्द्र देवता के पास गया और इसके बाद वह फिर से कुबेर (धन के देवता) के पास आवश्यक स्वर्ण मुद्राओं की अयोध्या में “शानु” और “अपति” पेड़ों पर बारिश कराने के लिए गया। इस तरह से, कौस्ता को अपने गुरु को अर्पण करने के लिए मुद्राएं प्राप्त हुई। वह घटना आज भी “अपति” पेड़ की पत्तियों को लूटने की एक परंपरा के माध्यम से याद की जाती है। इस दिन लोग इन पत्तियों को एक-दूसरे को एक सोने के सिक्के के रुप में देते हैं।

दुर्गा पूजा का महत्व

नवरात्री या दुर्गा पूजा का त्योहार बहुत अधिक महत्व रखता है। नवरात्री का अर्थ नौ रात होता है। दसवां दिन विजयदशमी या दशहरा के नाम से जाना जाता है। यह वह दिन होता है, जिस दिन देवी दुर्गा ने राक्षस के ऊपर नौ दिनों और नौ रात के युद्ध के बाद विजय प्राप्त की थी। लोगों द्वारा देवी दुर्गा की पूजा ताकत और आशीर्वाद पाने के लिए की जाती है। देवी दुर्गा अपने भक्तों को नकारात्मक ऊर्जा और नकारात्मक विचारों को हटाने के साथ ही शान्तिपूर्ण जीवन देने में मदद करती है। यह भगवान राम की बुराई, रावण के ऊपर जीत के उपलक्ष्य में भी मनाया जाता है। लोग इस त्योहार को दशहरा की रात को रावण के बड़े पुतले और पटाखों को जलाकर मनाते हैं।

Like the post?

Also read more related articles on BloggingHindi.com Sharing Is Caring.. ♥️

Sharing Is Caring...

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

×