Keyword Density, Prominence, Proximity Kya Hai? [SEO Guide]

Search engine से अधिक traffic प्राप्त करने के लिए सबसे important है कि हमें article लिखते time उसे search engine के लिए optimize करना होता है. Article को search engine के लिए optimize करने के लिए हमें SEO के बहुत सारे terms को follow करना होता है. यदि हम इन terms की सही से follow करते हैं तो गूगल में हमारी post अच्छे position पर होगी। यहाँ पर सबसे main point तो यह है कि search engine optimized article लिखने के लिए SEO की knowledge होने चाहिए। so, हम इस post में बात करने वाले हैं कि Keyword: Proximity, Prominence and Density क्या होती है?

Keyword Density, Prominence, Proximity kya hai seo guide

सभी ब्लॉगर चाहता है कि उसका ब्लॉग search engine में top position पर हो लेकिन सभी कोई अपने ब्लॉग को अच्छे से seo optimize नही कर पाता है. अभी के time में compitition हो रहा है लेकिन कुछ समय पहले ऐसा नही था. पहले तो ज्यादा हिंदी ब्लॉग नही थे और हर कोई different topic पर अपना ब्लॉग बना लेता था और कम समय मे उसे success मिल जाती थी. अभी के समय मे पहले से जिस topic पर ब्लॉग होता है उसी पर लोग अपना ब्लॉग बना लेते हैं और same to same जानकारी देता है।

मेने इस ब्लॉग में SEO से सम्बंधित बहुत सारी post लिखी है. अगर आप नए ब्लॉगर हैं तो आप हमारे ब्लॉग के SEO से सम्बंधित post पढ़िए और इसमें आपको बहुत सारी जानकारियां मिल जाएगी जो आपके लिए helpful होगी। सभी ब्लॉगर को SEO की जानकारी रखना पड़ता है. क्योंकि यही एक ऐसा way है जिसके द्वारा वो एक successful blogger बन सकता है और ब्लॉगिंग से लाखों की earning कर सकता है. यदि आपको SEO की जानकारी नही होगी तो आप search engine friendly articles नही लिख पाओगे और जब आप अपने ब्लॉग को search engine friendly नही बनाओगे तो आपको search engine से अच्छी traffic नही मिल पाएगी। आपको हमें ये बताने की जरूरत नही traffic के बिना ब्लॉग से earning करना possible नही है।

मेने देखा है कि अक्सर नए ब्लोग्गेर्स को SEO से सम्बंधित बहुत सारी conclusion रहती है. इसीलिए हम इस post में bloggers की एक बहुत बड़ी headache को दूर करने वाले हैं कि Keyword Optimization में Proximity, Prominence और Density क्या होती है. जब हम post लिखते हैं तो उसमें keyword से related बहुत सारी mistake हो जाती है, जिसे हम ध्यान नही देते है. आपको पता है यही mistake आपकी बहुत बड़ी परेशानी बन सकती है. अगर आप इन्ही mistake को ध्यान में नही रखकर बार बार ऐसी mistake करते हो तो इससे search engine आपके site की ranking को कम कर सकती है।

See also  Website Ya Blog ki Backlink Check karne Ke Liye 5 Tools

SEO में Keywords क्या होता है?

Keyword किसी भी sentence का एक most popular word होता है. जब कोई user search engine में search करता है तो उसमें से कोई word ऐसा होता है जो search engine में ज्यादा popular होता है तो उसकी ranking search engine में अच्छी होती है, उसी को keyword कहते हैं। एक right keyword किसी भी business को success level तक ले जाने में मदद करता है. अगर आप अपने ब्लॉग में keyword का सही उपयोग करते हैं तो यह आपके ब्लॉग की सफल बना सकता है.
अगर आप अभी भी नही समझे तो में आपको example से बता देता हूँ कि जब हम Google में ये search करते हैं कि “What is Keyword Density in SEO” तो search engine की यह पता चल जाता है कि आप SEO से related article search कर रहे हो तो यह आपको SEO से related content show करता है. इसीलिए SEO को keyword माना जाता है. अगर हम आपको simple में कहें तो search engine में अलग अलग words की ranking अलग अलग होती है और जिस word की ranking ज्यादा होती है उसकी value भी ज्यादा होती है और उसी को keyword भी कहते हैं।

Keyword कितने Type के होते हैं?

अब आप समझ गए होंगे कि keyword क्या होता है? तो अब हम आपको keywords के प्रकार के बारे में बताते हैं. यानी keyword कितने प्रकार के होते है तो चलिए नीचे details से जानते हैं।

3 Types of Keywords:

Generic Keyword:- इसे short keyword भी कहते है. जब हम post लिखते हैं तो उसमें हम किसी किसी sentence में एक word का जो keyword लिखते हैं उसे generic keyword कहा जाता है. e.g job, business, training etc.

See also  Cornerstone Content Kya Hai? Cornerstone Content Kaise Likhte Hai?

Broad Match Keyword:— जब हम search engine में किसी perticular product या brand को search करते हैं तो उसमें जो keywords होते हैं वो broad match keyword कहलाते हैं. जैसे कि आप google में ये लिखते हो “Buy Samsung smartphone” तो यह broad match keyword ही कहलायेगा।

Long Tail Keyword: — 3 या 4 keywords के combination को ही long tail keyword कहा जाता है. अगर आप नही समझे तो में आपको example बता रहा हूँ कि ” best responsive premium WordPress themes” यह एक long tail keyword है. क्योंकि इसमें 5 keywords use किया गया है।

Keyword Density क्या होता है?

ब्लॉग के article में add किये गए total words में keywords की संख्या की percentage को ही keyword density कहा जाता है. इसका SEO में बहुत बड़ा importance होता है. अगर आप अभी भी नही समझे तो में आपको simple में बता देता हूँ कि example के तौर पर एक article में 2000 words use किया है और उसमें keyword को 40 बार लिखा है तो इसका density 2% होगा। SEO में आप keyword density को 2% तक ही रखना better होता है. आप maximum 3% तक keyword density रख सकते हो।

अब आपके मन मे यह सवाल भी आया होगा कि किसी post की keyword density कैसे check करते है तो इसके लिए एक बहुत ही simple formula है, जिससे आप भी आसानी से post की density निकाल सकते हो।

Formula :―

(Nkr ÷ Tkr) × 100

Note: इसमे Nkr की जगह post में use की गई keywords की total संख्या और Tkr की जगह post में use की गई total words की संख्या है।

इस तरह से आप post में keyword की density को पता कर सकते हो. आपको एक बार फिर से बता देता हूँ कि post में maximum 2% keyword density ही रख सकते हो. अगर आप 3% से ज्यादा keyword density रखते हो तो इससे search engine में आपका post अच्छे rank पर नही होगा।

Keyword Prominence क्या होता है?

किसी article में keywords के placement को ही keyword prominence कहा जाता है. जब हम अपने post में keyword add करते है तो it’s called Keyword Prominence. इसकी SEO में बहुत importance होता है। यदि आप post लिखते time इसको ध्यान में नही रखते हैं और keyword को अच्छे स्थान पर place नही करते हैं तो इससे आपके post की ranking बढ़ने की बजाय कम हो जाएगी। इसीलिए post में keyword को अच्छे जगह पर add करे ताकि आपके post की ranking बढ़े।

See also  Kisi Blog Me Guest Post Karne Ke Liye 8 Important Rules

Keywords Placement कहाँ करे :―
Post के Title में. (One Time)
Post के Permalink में. (One time)
Post के 1st and Last paragraph में.
Image के Alt, Description and Title में.
Post की Heading में. (H1, H2, H3)

Keyword Proximity क्या होता है?

किसी article में 2 keywords के बीच की distance को ही keyword proximity कहा जाता है. post में बहुत सारे जगह में आप keyword put कर सकते हो और इसे search engine आसानी से crawl करके high rank दे देता है. example के तौर पर अगर कोई search engine में ये search करता है कि “How to create facebook pixels 2017” तो Google उसे ”Facebook Pixel & How to create them” की reasult show करता है. इन सभी मे exact keyword ये है ”create facebook pixel” तो इसमे Facebook pixel और create के बीच distance है ये keyword proximity कहलायेगा।

Conclusion,
किसी भी content की strength उसमे use keywords पर ही depend करता है. अगर किसी post में बहुत ज्यादा keyword use किया गया है लेकिन उसमे Keyword Density, Proximity, Prominence को ध्यान में नही रखता है तो उसकी ranking बढ़ने की बजाय कम हो जाती है. इसीलिए जब भी post में keyword use करते हैं तो keyword density, proximity, prominence को ध्यान में रखें तभी आपके post को better ranking मिल पाएगी।

में उम्मीद करता हूँ कि यह post आपको अच्छा लगा होगा और आप Keyword Density, Prominence और Proximity के बारे में जान गए होंगे। अगर आपके मन मे keyword या SEO से related और भी कोई सवाल है तो comment करें. हमारे ब्लॉग में newsletter से join करें और post को share करें।

Like the post?

Also read more related articles on BloggingHindi.com Sharing Is Caring.. ♥️

Sharing Is Caring...

3 thoughts on “Keyword Density, Prominence, Proximity Kya Hai? [SEO Guide]”

  1. बहुत शानदार ब्लॉग है सभी कॉन्सेप्ट क्लियर हो गये है लेकिन मे तोड़ा कन्फ्यूज़ हू, कीवर्ड प्रॉक्सिमिटी को लेकर यह मेरे लिया तोड़ा धीयान देने वाला टॉपिक है कीवर्ड के बीच के स्थान को मे समझ नही पाया!
    शानदार ब्लॉग के लिए धन्यवाद!!

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

×